Saturday, 12 August 2017

1-949 देखके तुझे कभी कभी

देखके तुझे कभी कभी यूं लगा है ज़िन्दगी,
मुझसे यकीनन तुझे कोई गिला है ज़िन्दगी..(वीरेंद्र)/1-949


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment