Saturday, 29 July 2017

2-531 कातिलों को इल्जाम

कातिलों को इल्ज़ाम न देना अगर ज़ालिमों का खून हो जाए,
और गुनाहगारों के खात्मे से माशरे में थोडा सा सुकून हो जाए,
ये हवालात, जेलें, अदालतें, जमानतें हो जाएंगी गैर-जरूरी,
अगर मौका-ऐ-वारदात पर ही सज़ा देने का कानून हो जाए..(वीरेंद्र)/2-531


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment