Thursday, 18 May 2017

2-511 तेरे आने की खबर

तेरे आने की खबर जबसे आई है,
उदास ज़िन्दगी ने ली अंगड़ाई है,
बदली बदली सी है हर कोई शय,
कुदरत भी अजब रंग में नहाई है..(वीरेंद्र)/2-511


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment