Saturday, 13 May 2017

1-925 या तो देदे मुझे जिंदगी

या तो देदे मुझे ज़िन्दगी दुबारा से मेरे मालिक,
या फिर मेरे तजुर्बों में अब कोई इजाफा न कर..(वीरेंद्र)/1-925

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment