Friday, 28 April 2017

2-518 बड़ी बात छोटे मुंह से

बड़ी बात छोटे मुंह से अच्छी नहीं लगती,
जब किसी से एक चींटी भी नहीं मरती.(वीरेंद्र)/2-518


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment