Saturday, 22 April 2017

2-517 हम औरतें अपने हकूक

हम औरतें अपने हक़ूक़ के खूं का तस्करा भी न करें,
अक्लियतें उनका क़त्ल कर दें और हम चर्चा भी न करें..(वीरेंद्र)/2-517

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment