Wednesday, 5 April 2017

1-908 ज़रा सो उन्सियत

ज़रा सी उन्सियत क्या हुई उनसे, ज़माने ने मुहब्बत का नाम दे दिया,
ज़रा सी आँख क्या मिलीं उनसे, लोगों ने मुलाक़ात का नाम दे दिया..(वीरेंद्र)/1-908


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment