Tuesday, 28 March 2017

2-502 'विवाद' की जड़ में बस

'विवाद' की जड़ में बस ज़िद तेरी है और मेरी है,
वरना तो मुद्दे में कोई रूचि, ना तेरी है न मेरी है..(वीरेंद्र)/2-502


वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment