Thursday, 16 March 2017

1-895 न्यामते-खुदा की शक्ल में


न्यामते-खुदा की शक्ल में मेरे पास मेरे दर्द तो हैं,
गर मेरे दामन  में नहीं खुशियाँ, मेरे इर्द-गिर्द तो हैं,.(वीरेंद्र)/1-895

वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment