Saturday, 18 February 2017

2-493 कोई कह रहा, बच्चे हैं

कोई कह रहा, बच्चे हैं, बेचारे बलात्कार कर देते हैं,
कश्मीरी कहते, बच्चे हैं, सेना पर पत्थर फ़ेंक देते हैं,
पर देखिये मेरा भारत कितना है सहिष्णु और महान,
चुनावों के वक्त इन्ही लोगों को नेता हम चुन लेते हैं..(वीरेंद्र)/2-493

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment