Friday, 24 February 2017

1-886 मै नहीं डरता, वो ही

मैं नहीं डरता,वो ही मुझसे डर जाती है,
मौत मेरे अगल बग़ल से गुज़र जाती है..(वीरेंद्र)/1-886


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment