Sunday, 15 January 2017

2-485 न करो छोटी बात

न करो छोटी बात भी दिल दुखाने की,
छोटी सी को बड़ी बनते देर नहीं लगती..(वीरेंद्र)/2-485


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment