Thursday, 5 January 2017

1-863 नेक इंसानों को क्यों

नेक इंसानों को क्यों बुला लेता है तू अपने पास,
क्या हमारे हिस्से में तेरे नापसंदीदा ही लिक्खे हैं..(वीरेंद्र)/1-863


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment