Wednesday, 30 November 2016

2-475 नोटबंदी के विरुद्ध

नोटबंदी के विरुद्ध दलों की गुटबंदी
यह राजनीति नहीं, नौटंकी है गन्दी,
घंटी बज रही है खतरे की देश में,
कालाधन-कुबेर हैं आर्थिक-आतंकी..(वीरेंद्र/2-475
रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment