Friday, 4 November 2016

1-819 उससे और कुछ पूछना

उससे और कुछ पूछना भी हिमाकत होगी,
जिसकी बदली हुई नज़र ही मुकम्मल जवाब है..(वीरेंद्र)/1-819

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment