Sunday, 20 November 2016

2-470 मुल्क का कानून बड़ा नर्म

मुल्क का कानून बड़ा नर्म है,
देशभक्त है ठंडा, गद्दार गर्म है,
दुश्मन परस्तों को बोलने में,
न कोई गुरेज़ है न कोई शर्म है..(वीरेंद्र)/2-470

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment