Sunday, 25 September 2016

2-442 "आरक्षण" जिन दलितों के

'आरक्षण' जिन दलितों के लिए था लक्षित, उसका फायदा उनको मिला नहीं, 
'नारी-सशक्तिकरण' का लाभ उनको मिला जिनके लिए वह लक्षित था नहीं।
खा चुके 'आरक्षण-मलाई' कुछ अपने गरीब दलित भाइयों के लिए छोड़ दो,
शहरों में हो गया 'सशक्तिकरण', कुछ ग्रामीण गरीब बहनों के लिए छोड़ दो।


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"/2-442

No comments:

Post a Comment