Tuesday, 27 September 2016

1-807 किस कदर हुनरमंद

किस कदर हुनरमंद हैं इस दौर के लोग,
यूं बदल जाते हैं आइना भी नहीं पहचानता..(वीरेंद्र)/1-807

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी
"

No comments:

Post a Comment