Monday, 15 February 2016

2-373 यूनिवर्सिटियों में गद्दारी के

युनिवर्सिटियों में गद्दारी के जश्न आम हुए,
फिर मदरसे बेचारे क्यूँ इतने बदनाम हुए..(वीरेंद्र)/2-373


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment