Tuesday, 9 February 2016

2-372 इश्क का कातिल बड़ी

इश्क का कातिल बड़ी हडबडाहट में था.
मक्तूल बोला आला-ऐ-क़त्ल तो मत भूल यहाँ..(वीरेंद्र)/2-372


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment