Sunday, 21 February 2016

2-365 किसी का माई-बाप

किसी का माई-बाप बहुत दूर चायना है,
तो किसी का आका पडोसी पकिस्तान है,
दे कर सबको रोज़ी-रोटी-कपडा-मकान,
बेचारा भारत फिर भी जैसे निस्संतान है..(वीरेंद्र)/2-365

राचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment