Thursday, 4 February 2016

2-359 ये पार्टी उस पार्टी को

ये पार्टी उस पार्टी को, और वो पार्टी इस पार्टी को मुद्दा देती है,
वोटों-नोटों की सियासत मुल्क में गन्दगी को खूब हवा देती है,.(वीरेंद्र)/2-359


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment