Monday, 29 February 2016

1-750 कौनसी तन्हाई खुदा ने

कौनसी तन्हाई खुदा ने मुझे अता फ़रमाई है,
यहाँ मैं हूँ या तू है, और तन्हाई ही तन्हाई है..(वीरेंद्र)/1-750


रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment