Monday, 25 January 2016

2-355 क्या करेंगे इसका वापस रखलो

क्या करेंगे इसका, वापस रख लो यह साहित्य-पुरूस्कार,
अब वो तलवे ही न रहे जिन्हें चाटकर पाया था ये उपहार..(वीरेंद्र)/2-355

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment