Monday, 25 January 2016

2-351 हे प्रभु,मुझे भी

हे प्रभु मुझे भी दियो कोई अवार्ड दिलवाय,
मै भी प्रसिद्धि पाय सकूं देकर उसे लौटाय..(वीरेंद्र)/2-351

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment