Friday, 25 December 2015

2-339 भारत-पाक बातचीत

भारत-पाक बातचीत अँधा सफ़र है जिसकी कोई मंजिल नहीं,
मुद्दे हैं इसमें ऐसे, जिनका निकल सकता अब कोई हल नहीं,
नासूर बन चुके ज़ख्म पर मरहम मलना वक्त ज़ाया करना है,
कर डालो ओपरेशन उसका आज ही, किसी सूरत में कल नहीं..(वीरेंद्र)/2-339

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment