Friday, 31 July 2015

1-671 दहशतगर्दों तुम अपनी जान से

दहशतगर्दों तुम अपनी जान से चले जाओगे,
पर अपने पीछे कई चेहरे बेनकाब कर जाओगे..(वीरेंद्र)/1-671

रचना : वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment