Friday, 17 July 2015

1-663 हमने भी अब बनावट का

हमने भी अब बनावट का लबादा ओढ़ लिया,
सच्चे दिल से मिलने पर कतराने लगे थे लोग..(वीरेंद्र)/1-663

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment