Thursday, 7 May 2015

1-643 अल्लाह के वो भी करीब

अल्लाह के वो भी करीब है, जो गरीब है,
वो चंद रोज़ नहीं, अक्सर  ही रोज़े से रहता है..(वीरेंद्र)/1-643

रचना: वीरेंद्र सिन्हा "अजनबी"

No comments:

Post a Comment